DBMS क्या है और इसका कार्य|What is Database Management System in Hindi?

0
72

Hello friends!! Equicklearning- Learn Anywhere, में आपका स्वागत है । मै हु Anshu Singh, और आज के इस article में हम आपको बताने वाले है कि DBMS क्या होता है तथा इसका कार्य? (What is Database Management System in Hindi)?

वर्तमान समय में Database तथा Database System हमारे daily life का एक important part है । हम अपने दैनिक जीवन में अक्सर किसी न किसी रुप से Database से interact करते रहते हैं । चाहे हम bank में पैसा जमा करते हो या bank से पैसा निकालते हो, या कुछ online खरीदारी करते हो, या फिर रेल या हवाई यात्रा के लिये ticket का reservation करवाना हो। किसी न किसी हमारा interaction database से होता ही रहता है । तो आइये जानते है कि database क्या होता है?

DBMS क्या है (What is DBMS) ?

DBMS का पूरा नाम Database Management System एक Software होता हैं, जिसका उपयोग डेटाबेस को बनाने और संभालने के लिए किया जाता हैं। तथा डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम(Database Management System) programs का पूरा collection होता है। जिसकी मदद से users डेटाबेस को create, delete और maintain कर सकते है। DBMS users, और programmers को एक organize तरीके के साथ डाटा को बनाने(creating), संभालने(storing) और update करने की सुविधा प्रधान करता हैं

Database related डाटा के facts and figures के द्वारा process किये गये information(सूचनाओ) का एक collection होता है

अर्थात Database management System एक तरह का General Purpose software होता है।

Database management system(dbms) क्या है

जिससे data को retrieve, manipulate, update, delete और information को analysis/process करना बहुत हि आसान हो जाता है।

Popular Database Management System MySQL, PostgreSQL, Microsoft Access, dbase, FoxPro, IMS, oracle, SQL, तथा DB2 etc…

DBMS Full Form?

DBMS का full form Database Management System होता है।

DBMS Full Form In Hindi ?

DBMS का full form हिंदी में डेटाबेस प्रबंधन प्रणाली होता है जिसका तात्पर्य Database को सही तरिके से manage करना organize, store, delete, update etc.. करना होता हैैै।।

Database Management System हमें सुविधाएँ provide कराता है:

यहाँ पर हम अपने database से related table में स्टोर data के data types, structures, schema और constraints को define/specify करता है।

डेटा को किसी भी storage medium में स्टोर करने की प्रक्रिया को DBMS के द्वारा नियंत्रित किया जाता है। DBMS में उपस्थित डेटा को retrieve तथा update किया जाता है और रिपोर्ट्स को generate किया जाता है। DBMS के द्वारा जो end users होते है वह डेटाबेस में डेटा को create, read, update, तथा delete कर सकते है.

दूसरें शब्दों में कहें तो,

“Database Management System End users तथा Database के मध्य एक इंटरफ़ेस(interface) या relation की तरह कार्य करता हैजिससे कि डाटा सुव्यस्थित तरीके से organized रहें और उसे आसानी से access किया जा सकें.”

DBMS के Components in Hindi

अब हम यह जानेंगे कि Database management system के components क्या है?

1:- हार्डवेयर(Hardware)
2:- सॉफ्टवेर(Software)
3:- डेटाबेस(Database)
4:- Procedures

Khatrimaza 2020 – Khatrimazafull HD Bollywood Movies

1:- Hardware:- Hardware कि बात करे तो इसमे हमारा Computer System आ जाता है। जो कि हमारे Database को स्टोर करने तथा एक्सेस करने के लिए प्रयोग होता है | Computer System में डाटा को स्टोर करने के लिए ज्यादातर हार्डडिस्क(Harddisk) and SSD(Solid State drive) का प्रयोग किया जाता है|

2:- Software:- Software में वो components आते है जो वास्तविक DBMS सॉफ्टवेर है। कंप्यूटर सिस्टम में जो डाटा है उसको users तभी एक्सेस कर पायेंगे जब हमारे पास dbms सॉफ्टवेर होगा, Database तथा users के मध्य DBMS सॉफ्टवेर स्थित रहता है|

3:- Database:- डेटाबेस(Database) एक collection of information(सुचना का समूह) होता है, जिसे इस प्रकार organise(व्यवस्थित) किया जाता है कि जिसमें information आसानी से access, manage, और update की जा सकें।

Database में हम तेज़ी से और आसानी से desired data को select कर सकते है।

इन्हे भी पढ़े 👉 DBMS में Anomaly क्या होता है ?

इन्हे भी पढ़े 👉 Network Security क्या होता है

4:- Users:–Database में users को अलग अलग category aur accessbility और जरूरतों के हिसाब से डाटा को एक्सेस करते है,प्रत्येक users की capability तथा जरुरत होती है वह अलग- अलग होती है.

इसमें users निम्नलिखित होते है:-

1:- Database administrator
2:- Database designers
3:- End users
4:- Application programmers

Windows Server को पूरा पढने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें:- Windows server क्या है?

5:- Procedures:- Procedures काअर्थ है की DBMS को चलाने के लिए प्रक्रियाएं, rules तथा instruction क्या है? तथा सिस्टम में डेटाबेस को किस प्रकार प्रयोग करना है. जैसे:- Database login, Database logout, Database manage, Database handle आदि.

Characteristics of DBMS(डेटाबेस की विशेषतायें हिंदी में)

डेटाबेस की विशेषतायें निम्नलिखित है:-

  • Database में हम लोग किसी भी प्रकार के data को स्टोर कर सकता है, real world or entity में जितने भी प्रकार का डेटा होता है यह उन सभी को स्टोर कर सकता है।
  • Database ACID properties को support करता है ACID का अर्थ होता है – Accuracy, Completeness, Isolation, तथा Durability.
  • Database system के द्वारा बहुत सारें user एक साथ एक समय पर Database को एक्सेस कर सकते है इसका अर्थ है कि यह multiusers capability को भी support करता है।
  • Database में store सभी प्रकार के डेटा को share किया जा सकता है।
  • Database के उपयोग से data redundancy नहीं होती है, अर्थात् duplicate डेटा हमारे Database में दुबारा Store नहीं होता है।
  • Database में Security features पहले से मौजूद होने के कारण कोई unauthorized user इसे एक्सेस नहीं कर सकता है.
  • Database में Data को backup किया जा सकता है अगर किसी कारणवश डेटाबेस delete हो जाता है या corrupt हो जाता है तो उसका हम backup ले सकते है.

इन्हे भी पढ़े 👉 Laravel में Database का connection कैसे बनाएं

dbms-kya-hai

DBMS के प्रकार(Types of DBMS in hindi)

यह मुख्यतया 4 प्रकार का होता है जो कि निम्न है:-

  1. Hierarchical
  2. Network
  3. Relational
  4. Object-oriented

1. Hierarchical Database

इसमें Data tree Structure में organized रहता है अर्थात इसमें डेटा top-down या bottom-up format में स्टोर रहता है। इस में Data parent-child relationship में Store होता है।

इस database में प्रत्येक record सभी parent-child के बारें में information को स्टोर किये रहता है, इसमें प्रत्येक child record का केवल एक parent होता है, और एक parent के बहुत सारें child हो सकते है।

इसमें किसी data को retrieve(पाने या पुनर्प्राप्त) करने के लिए हमें प्रत्येक tree को तब तक traverse(पार/गुजरना) करना पड़ता है जब तक कि record मिल नहीं जाता।

इस Database का सबसे ज्यादा प्रयोग banking और telecommunication क्षेत्रों में किया जाता है, इसका main advantage यह है कि इसमें हम data को बहुत fast से access और update कर सकते है|

इस तरह के Database में यह है कि इसका structure सभी में apply नहीं किया जा सकता, अर्थात यह flexible नहीं होता है.

Network Database

Network Database, नेटवर्क structure का प्रयोग entities(tables/relations) के मध्य relationship को create करने के लिए करता है| यह Database भी Hierarchical Database की तरह ही होता है।

परन्तु Network Database में एक child के बहुत सारें parent हो सकते है, इसमें Child को Members कहते है और Parents को Occupier कहते है|

इसका प्रयोग बहुत बड़े digital computers में किया जाता है|

Network Database का निर्माण Charles bachman ने की थी, इसमें entities को एक graph में organize किया जाता है। जिससे कि उन्हें बहुत सारें paths (रास्तों) से आसानी से access किया जा सके|

इसका मुख्य फायदा यह है कि इसमें हम डाटा को आसानी से access कर सकते है एवं इसका डिजाईन भी easy होता है | इसका नुकसान यह है कि इसमें records को update और insert करना बहुत complex होता है.

इन्हे भी पढ़े 👉 DBMS क्या होता है ?

इन्हे भी पढ़े 👉 Fat32 and NTFS File System क्या होता है

Relational Database

Relational Database सबसे ज्यादा उपयोग किये जाने वाला Database है क्योंकि यह सबसे simple है, और आसानी से use किया जा सकता है|

इसमें data जो है वह एक table की rows और columns में होता है इसमें data को insert, delete, update करने के लिए SQL का प्रयोग किया जाता है, इसमें table को relation कहते है|

कुछ popular relational DBMS है:- DB2, oracle, SQL server, RDB आदि

इसका मुख्य advantage यह है कि इसमें Data table के form में होता है, जिसके कारण users इसे आसानी से समझ लेते है और access कर सकते हैं|

इसका disadvantage यह हैकि ज्यादा data होने पर यह complex बन जाता है, और data के मध्य की relationship भी complicated हो जाती है|

Object-oriented Database

Object-oriented Database में data objects के रूप में स्टोर रहती है, और इसके structure को class कहते है।

यह programming की capability को उपलब्ध कराती है, इसमें database application को create करने के लिए कम codes की जरूरत होती है और codes को maintain करना भी बहुत आसान होता है।

Object oriented DBMS को 1880 के दशक में बनाया गया था|

ये database ज्यादातर सभी programming language को सपोर्ट करते है:- जैसे:- C++, JAVA, RUBY, PYTHON, आदि.

इसका मुख्य लाभ यह है कि इसको maintain करना बहुत आसान होता है इसका नुकसान यह है कि, इसकी कोई अपनी query language नही है जैसे relational की sql है|

Final Word

Friends आज आपने इस post मे पढा कि DBMS क्या होत है तथा इसकी कार्य विधि क्या होती है? तो दोस्तो मुझे उम्मीद है कि इस post को पढने के बाद आपके सारे सवालो के जवाब मिल गये होंगे । और आप ये अच्छे से समझ गये होंगे कि DBMS क्या है? DataBase System हमे कौन-कौन से सुविधाये प्रदान करती है ? DBMS के component कितने है? DBMS का Full Form क्या है ?

हमारी ये पुरी कोशिश रहती है कि आपको इस को पढने के बाद सरे सवालो के जवाब मिल जाये । फिर भी अगर आपकी कोई query या suggestions है तो आप हमसे निचे दिये गये comment box में पूछ सकते है । साथ ही आप हमसे social media के through भी जुड सकते है ।

Friends मुझे पूरी उम्मीद है कि ये post आपको पसंद आयी होगी । अगर पसंद आयी है तो इसे अपने दोस्तो के साथ जरुर share करे ताकि वो भी इस post से वंचित ना रह जाये । वो भी ज्ञान का लाभ उथाये । तथा subscribe जरुर कर ले ताकि आप तक हमारे post की latest notifications पहुचती रहे ।

STAY HEALTHY, BE POSITIVE

Thank You!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here