What are the different types of Cables in Hindi?

0
30

Hello friends!! I’m Anshu Singh. In today’s post, we discuss What are the different types of cables in Hindi?. So, please read this post till the end to know more about it.

So, without any further delay let’s get started. 

What are the different types of Cables in Hindi

What are the different types of Cables in Hindi? 

प्रमुख cable निम्न हैं   

Twisted Pair Cable 

  इस प्रकार की cable में तार आपस में गुथे हुए रहते हैं जो कि एक दुसरे से insulated पदार्थ द्वारा अलग-अलग रहते हैं । इस प्रकार की cable (तार) बनाने के लिए निम्न्लिखित चरण होते हैं   

Copper Rod Breakdown 

  इस चरण में copper rod को चूरा बनाकर इस प्रकार पिघलाया जाता है कि बनने के बाद यह low voltage प्रदान कर सके ।   

Copper insulation Process 

  इस प्रक्रिया में बने हुए ताम्बे के तारो का रोधन(insulation) किया जाता है ताकि तार एक-दूसरे के सम्पर्क में आने पर sparking न करे और short-circuit से बचे रहे ।   

Copper Twisting 

  इस प्रक्रिया में ताँबे के रोधन किए तारो (insulated wires) को ऐंठने का काम मशीनी यंत्रो द्वारा होता है । ताकि Twisted Pair बनाए जा सके ।   

Jacketing 

  इस प्रक्रिया में ऐंठे हुए तारो Twisted Pair पर plastic का खोल चढ़ाया जाता है । इस plastic को P.V.C यानि Poly Vinyl Chloride भी कहते हैं ।   

Printing on Twisted Pair 

  इस प्रक्रिया में ऐंठे हुए तारो पर छपाई की जाती है ।   

Coiling 

  इस प्रक्रिया में तारो को लपेटा जाता है । Coiling process के उपरांत तारो का अंतिम test होता है जिसमे सफल होने वाले तारो को बाजार में पहुँचा दिया जाता है ।   

Co-Axial Cable 

  समाक्षीय cable, computer network में प्रयोग होने वाला मुख्य भौतिक संचार माध्यम (PhysicalCommunication Medium) है । इसके केंद्र में एक ताँबे का ठोस तार होता है उसके ऊपर insulated पदार्थ (जिसे di-electric insulator भी कहा जाता हैं ) लगा होता हैं |    उसके ऊपर एक धातु का रक्षा कवच लगा होता है जिसके कारण अधिक दबाव में भी या खराब मौसम में तार को क्षति नहीं पहुँचती | सबसे बाहर एक plastic की मोटी परत चढ़ी होती है जो अंदर वाली दोनो परतो के लिए रक्षा कवच का काम करती हैं ।   

Optical Fiber 

Optical Fiber एक सन्चार माध्यम (Physical Communication Medium) है जिसके द्वारा सूचनाएँ एवं data एक computer से दूसरे computer तक तीव्र गति से पहुँचाया जाता है । Optical Fiber के मुख्यत: चार भाग होते हैं   

1) Core 

  यह optical fiber का केंद्र होता है सूचनाएँ एवं data इसी भाग के द्वारा एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचते हैं । यह प्रकाश स्पन्दों (light pulses) को network में जुड़े एक computer से उसी (या और किसी)network में जुड़े दूसरे computer को पहुँचाता है, प्रकाश स्पंद सूचना का ही एक संशोधित रुप है ।   

2) Cladding 

  यह भाग core में उपस्थित प्रकाश स्पन्दों (light pulses) परावर्तित (reflect) करके पुन: core भाग में पहुँचाता है । जिससे प्रकाश स्पंद, core भाग से टकरा-टकरा कर आगे बढ़ते रहते हैं और इसी तरह से सूचनाएँ एवं data आगे बढ़ते रहते हैं ।   

Read These Articles

  1.  What are the Threats in Hindi | What are the types of Threats
  2.  What is Antivirus Software in Hindi | What is popular Antivirus Software?
  3.   What are Computer Viruses | Classification of Computer Viruses in Hindi
  4.   What is a Digital Signature in Hindi | How can Digital Signature be ensured?
  5.   What are the Provisions in Act in Hindi | What do you mean by IT Act 2000 and 2008
  6.  What is a Cyber Attack in Hindi? What is Cyber Law?

3) Buffer Coating 

  यह भाग fiber optics का ऊपरी भाग होता है, इस भाग को optical fiber का रक्षा कवच भी कहते हैं, यह core को नमी प्रकाश प्रदूषण आदि से बचाता है । optical fiber एक बार में एक करोड.(10 million) सूचनाओ तक को एक साथ प्रवाहित करने में सक्षम होता है ।   

4) Jacket 

Jacket optical fiber का सबसे ऊपरी आवरण होता है जो अपने नीचे की सभी परतो (coatings) को पूर्ण सुरक्षा प्रदान करता है ।   

Final Word

I hope you like this post, What are the different types of Cables in Hindi? . If you have any query or suggestions, asks us in the comment below. Don’t forget to share with your friends, join us for daily updates. Thank you..!!    

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here